Tuesday, 10 January 2012

कान्हा दर्शन ज्योतिष केन्द्र

ज्योतिष भगवान् नारायण का नेत्र है। ऐक नेत्र सूर्य दूसरा सूर्य अौर इन्हीं दोनों ग्रहों के सहयोग से ही ज्योतिष विषय की गणित प्रारम्‍भ होती है। अतः जितने सत्य सूर्य और चन्द्र हैं उतनी ही सत्य ज्योतिष विद्या है ये अलग बात है कि ज्योतिष ‌विद्या का फलित सिद्घान्त श्रापित है।
आचार्य धीरेन्द्र 
मो. 09871662417

No comments:

Post a Comment